रिमझिम फुहार

आँखे नीर भरी ..

27 Posts

64 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 17137 postid : 678336

एक पुराना नाम है निकला.....

Posted On: 30 Dec, 2013 कविता में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

एक पुराना नाम है निकला

घर से कुछ सामान है निकला

अहद पुराना इक बात पुरानी

दो आँखों कि एक कहानी

कागज में लिपटे आंसू सा

दिल का एक अरमान है निकला

एक पुराना नाम है निकला

 

कुछ धङकन कुछ साँसे है

जीने मरने कि बाते है

खत पुराने पल  अनजाने

प्यार में पागल दो दीवाने

दीवानों के दर्द में डूबा

गज़ल का एक दीवान है निकला

घर से कुछ सामान है निकला

 

वो मुझमे पूरा डूब गयी थी

इश्क में वो क्या खूब गयी थी

साहिल हमको देख रहा था

लेकिन मै भी डूब रहा था

दरिया में भी डूब के वो

लम्हा इक अहसान सा निकला

एक पुराना नाम है निकला

 

आज खड़े हम निपट अकेले 

खुद को आज समेटे से

मन की ज्वाला धधक रही है  

और जीते है हम प्यासे से

कुछ छीटों की ख्वाहिस में 

ज़हर का इक जाम है निकला

घर से कुछ सामान है निकला

 

…विनय सक्सेना



Tags:                                                         

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (4 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

17 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

December 31, 2013

सुन्दर रचना ……………………..बहुत खूब…………………………………….. जेजे पर एक पैगाम है निकला, उसमे विनय का नाम है निकला, मुद्दतों यह तूफ़ान है निकला, ……………………………………………….

विनय सक्सेना के द्वारा
December 31, 2013

हा हा हा ……अनिल साहब सादर धन्यवाद

abhishek shukla के द्वारा
January 1, 2014

आज खड़े हम निपट अकेले खुद को आज समेटे से मन की ज्वाला धधक रही है और जीते है हम प्यासे से कुछ छीटों की ख्वाहिस में ज़हर का इक जाम है निकला घर से कुछ सामान है निकला……..खूबसूरत पंक्तियाँ…..बधाई

विनय सक्सेना के द्वारा
January 1, 2014

Thnx Abhisek….wishing u a very happy new year 2014

yogi sarswat के द्वारा
January 1, 2014

कुछ धङकन कुछ साँसे है जीने मरने कि बाते है खत पुराने पल अनजाने प्यार में पागल दो दीवाने दीवानों के दर्द में डूबा गज़ल का एक दीवान है निकला घर से कुछ सामान है निकला बहुत बहुत भावनाप्रधान एवं सुन्दर शब्द विनय जी !

विनय सक्सेना के द्वारा
January 1, 2014

Thnx Yogi sahab….Wishing you a very happy new year 2014

Ajay Yadav के द्वारा
January 1, 2014

Bahut Khub Sir ji ………………….Dil ko chu Jati Hai,

Bhagwan Babu 'Shajar' के द्वारा
January 1, 2014

सुन्दर …

yatindranathchaturvedi के द्वारा
January 1, 2014

||WISH YOU A VERY HAPPY NEW YEAR-2014|| स्वागत बिहान दो हजार चौदह 2014।

विनय सक्सेना के द्वारा
January 1, 2014

Thnx Yatindra ji…….my best for you for new year 2014

विनय सक्सेना के द्वारा
January 1, 2014

Thnx Ajay Bhai…Wishing you very happy new year 2014

yamunapathak के द्वारा
January 1, 2014

एक अच्छी सी कविता के लिए बधाई

विनय सक्सेना के द्वारा
January 1, 2014

Thanks Yamuna Ji Best wishes for the New Year 2014

sinsera के द्वारा
January 6, 2014

बहुत खूबसूरत ….मेरा कुछ सामान तुम्हारे पास पड़ा है …..बिलकुल वही भाव लिए हुए सुन्दर रचना…

विनय सक्सेना के द्वारा
January 7, 2014

Thnx for the same and wishing you a very happy new year2014

Madan Mohan saxena के द्वारा
January 8, 2014

सुन्दर ,ढेरों हार्दिक मंगल कामनाएँ ! कभी इधर भी पधारें आभार मदन

विनय सक्सेना के द्वारा
January 8, 2014

Sure Madan Ji……Thnx..


topic of the week



latest from jagran